गोपाल युगलकृष्ण सौंदर्य बर्णन

                                           [ १ ]
शीश मुकुट नैना ,रुचिर      , उर सोहै   वनमाल।
श्री राधे  सर्वेश्वरी             ,सर्वेश्वर    नंद लाल।
सर्वेश्वर नंद लाल छबि को         ,    बरनै      प्रिय     नटवर   की।
मोती मूंगान जड़ौ अंगरखा        ,   झिलमिल कांति   कुंवर    की।
लाढौ संग गिरधारी सोहैं            ,   जोड़ी  नंबर            बन     की।
नथ झलकारी बेंदी द्युति ज्योँ   ,   लाली       भानू       बर     की ।
तप्त स्वर्न सी कांति मनोहर      ,   शक्ति प्रेयसी हरी          की  ।
दरस कर मन सुख पावै          ।     हिये    मैं    प्रेम      बढ़ावै      ।
भावार्थ :—-
 श्रीकृष्ण के सिर पर मुकुट शोभायमान है ।उनके नेत्र बहुत ही सुन्दर
हैं ।उनके वक्षस्थल मैं वनमाला पहनी हुई है । श्री राधिके जो
सर्वेश्वरी हैं उनके साथ सर्वेश्वर नन्द जी के पुत्र श्री श्याम सुन्दर हैं ।
नटबर वेश धारण करने वाले श्याम की शोभा का बर्णन कौन  सकता
है । मोती मूंगों से जड़ा उनका कुरता है । उनका तेज झिलमिल करता
है। चमक बखेरता है । श्री राधिके रानी के साथ श्री गिर्राज जी को
धारण करने वाले गिरधारी राधिके की जोड़ी नम्बर वन की है ।बड़ी
उनकी नाक की नथ सुन्दर है । उनकी बिंदी बिजली की तरह चमकती
है ।उनका रंग  तपे हुए सोने की तरह सुर्ख लाल है । श्री राधे भगवान
की प्रेयसी भी हैं और उनकी शक्ति भी ।
उनको देखने से मन बहुत ही सुखी होता है  ।
                                                  [ २    ]
मोरपंख       मंदिर       रुचिर      ,    मोर चंद्र  ,  हरि , द्धार       ।
मोर पंख ,     पर्दा   टंगे               ,   मोर , लीन   कर   हार        ।
मोर लिए  कर  हार     वन्दना             ,     करन     जुगल    हरि      आये ।
जीव जंतु  वनचर  सब जुरिमिल         ,     मंदिर    दर्शन              भाये     ।
गऊ  , ग्वाल , गोपी ,      इकठौरे         ,     झाँकी     , निरख      , लुभाये ।
                                       मोर     चंदरब     ओढ़     ओढ़नी       ,   मोर छपे  ,           ललि  साये    ।
                                           मोर चांदनी      , छपे      अंगरखा        ,  मोहन      ,       जू      ,  पहराये  ।
                                       मुरली धारी   ,  चंद्र बिहारी                   ,     मोर   मुकुट      ,  मन भाये      ।
                                        ,चंद्रमुखी ब्रजचंद्र  जुगल दोउ                  , कोटिन     ,   काम,    लजाये    ।
                                          जमी  अति   सुन्दर    जोरी                        , चंचल  मोहन    राधे   भोरी      ।
                                      दरस   कर   मन  सुख पावै                       ,   ” गुपाल ” हिआ ,ललचावै     ।
 भावार्थ :—-
श्री कृष्ण भगवान का मंदिर बहुत ही सुन्दर है ।     वह बनाने
वाले ने मोर पंखों से बनाया है ।उसके द्वार भी मोरपंख चन्द्रमा से बने हैं ।
मयूर अपने कर मैं हार लेकर श्री राधिके श्याम के दर्शन करने आये जीव
जंतु सब इकठ्ठे होकर दर्शन कर रहे हैं। गौएँ ग्वाल ,गोपियाँ युगलस्वरूप
झांकी देख कर  मोहित हो गए। मोर चंद्र की चाँदनी से बने कुर्ते श्री राधिके
जी और मोहन जी को पहनाये ।मुरली धारण करने वाले चंद्र बिहारी का
मोरपंख से बना मुकुट मन को बहुत अच्छा लगता है ।चन्द्रमा जैसे मुख
वाली श्री जी व बृज के चंद्र श्री कृष्ण करोड़ों काम देव् लजाने वाले हैं। दोनों
की जोड़ी अत्यंत सुन्दर जमी है। श्री मोहन चंचल दिखाई देते हैं । तथा
राधिके भोली भाली दिखाई देती हैं दर्श करने से मन प्रसन्न हो जाते हैं।
गुपाल का   हिया ललचाता है ।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *