श्री गोपाल बृज बाल लीला कीर्तन रस माधुरी

 
श्री गोपाल बृज लीला कीर्तन रस माधुरी
 
लीला    करत  दुष्ट  संहारे कंस अनुचरी  अनुचर स्याम
खेल खेल  प्रभु  खेल  खिलैया   पूतन दूध  पिवैया  स्याम
पीयो जहर जनिन गति दीनी  तो सो कौन  कृपालु स्याम
दूध दान दधि लूटन हारे       माखन बांटत हाथन  स्याम
खामें नांय  खिलावे  बारे          सबके ध्यान रखैया स्याम
गेंद खिलैया  गेंद फिकैया       गेंद   ढुढैया  यमुना  स्याम
नीर  शुद्ध  करवैया कान्हा         काली नाग नथैया स्याम
शरनागत बत्सल मनमोहन अभयदान  कालि  संग  वाम
अदुभुत कालीदह लीला  प्रभु      जीव जंतु उपकारी स्याम
गऊ संग गिरिराज  पुजैया      प्रकति  मानदिवैया  स्याम
इन्दर कोप उबार दियो  ब्रज  गुपाल  गिरधारी घन स्याम
जय राधे  जय राधे  राधे           जय राधे  जय  जय घनस्याम  
जय कृष्णा जय कृष्ण कृष्णा  जयगुपालप्रभु राधे स्याम
 
भावार्थ :—-
दुष्टों को मारना  जिनने  खेल  बना  लिया वे  सभी
कंस के  दास और दासी थे जहर पीकर  पूतना को माँ की
गति प्रदान की तुम  जैसा कृपालु  कोई दूसरा नहीं है
दूध और  दही लूटकर  दान  करने  वाले  आप अपने हाथों
से माखन   बाँटने वाले हो खुद खाकर  दूसरे को खिलाने
वाले  तुम सबका  ध्यान रखने वाले हो। गऊ को चराने ले
जाने वाले जमुना  मैं गेंद फेंकने वाले काली का अभिमान
चूर करने वाले तुम  ही  हो। श्री जमुना के जल को शुद्ध
करने वाले श्रीदामा के  प्यारे तुम ही हो। हे जीवों पर दया
करने वाले आपने       अपराधी     कालिय को क्षमा कर
दिया ।आपने अनौखी कालीदह लीला की  आपने कालिय
की स्त्रियों के  कहने से  सब को  अभय कर दिया गायों
के साथ गिरिराज की पूजा करवाने वाले  आप  प्रकृति
को मान देने वाले हो। इंद्र के क्रोध को  आपने श्री गिर्राज
को .अपने  हाथ से  उठाकर शांत कर दिया। बंशी बजाने
वाले    प्रेम बाँटने     वाले   मनमोहन  श्रीकृष्ण  हो   हे
गिर्राज       उठाने    वाले  गिरधारी       और    बलराम
जी ने  ब्रज के वासियों का राक्षसों का डर [ कंस का भय ]
निकाल  दिया।
 
 
 
 

2 Comments

    • admin

      radhe krishna kanchan apko achcha laga .mera prayatn safal samjhen man sarswarti ki krpa ganesh ji dwara sadbudhi ,shree krishna jai guruon ka margdaeshan ap jaise vidushi pathakon ki sewa main samarpit sadar

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *