सद्गुरु वंदन स्तुति महिमा

                                        [ १ ]

 

प्रणमामि गुरू  प्रणाम  प्रभु ,   नमामि गुरु     नमन प्रभू    ।
स्मरामी गुरू स्मरण प्रभू    ,भजामि गुरू      भजन प्रभू     ।
पूजा गुरू  पूजन प्रभु          ,      भगती  गुरू भगवत प्रभु   ।
 श्रदालु गुरू     श्रद्धा प्रभू     ,    कृपा   गुरू    कृपालु प्रभु    ।
विश्वास गुरू  आशा   प्रभु    ,     सेवा गुरु     सेवन प्रभु     ।
ज्योति गुरू ज्योतिर्मय प्रभु,   प्रकाशगुरु   प्रकाशित प्रभु    ।
चिंता गुरू चिंतन   प्रभु     ,  सम्मान गुरू      मान   प्रभु ।
निंदा गुरू निन्दन प्रभु      ,      वंदना  गुरू  वंदन  प्रभु   ।
 दान   गुरू  दाता प्रभु         ,    सारथि  गुरू सारथ्य  प्रभु ।  
  गौरव गुरु  गर्वित प्रभु       ,    प्रभुहि गुरु गुरुहि प्रभु       ।
ज्ञानी गुरु ज्ञानव  प्रभु         ,     विनयी गुरु   विनयप्रभू   ।
आरंभ  गुरु    अंत प्रभु        ,        अंत गुरु    अनंतप्रभु    ।
पूरण गुरू   पूर्ण प्रभु           ,   विजयी गुरु जय जय प्रभु   ।
                                     [ २  ]
गोविंदा गोपाला गुरु तुम          परमात्मा हरि जग में  तुम ।
ज्ञानगंग जल निर्मल धारा        मनुज उद्धारी  अनुपम तुम ।
मन मंदिर सब मैल  छुड़ावन      निर्मल निरमा जीवन तुम   ।
बोध प्रदाता ज्ञान बढ़ाता            मोह माया छुड़वामत तुम ।
ईश्वर रूपी सद्गुरु प्यारे              परमपिता अन्वेषक तुम। 
घुप्प अंधियारे मग दुरूह अति     जगमग पुंज उजारा तुम ।
 करूँ अनुसरण पद पंकज गुरु          सांची राह बताई तुम ।
प्रभू साधना साधन साधों        अभिमन्त्रित गुरुमंत्रण दम । 
महिमा हरि सों बडी तुम्हारी         कीर्ति बढाई गुपाल तुम । 
जप तप प्रेम भक्ति गुर दाता शरण दीन निज चरणन तुम ।
 
अटल सत्य गुरु अटल आस गुरु    अमर पंथ अमराई  तुम ।
पद सेवा सौभाग्य अनुचरी             गुरुवर देवौ हमको तुम ।
जय जय गुरुदेव दयालू             लक्ष्य जन्म बतलाया तुम । 
मन तन जकड़न ढीली कीनी        भक्ति प्रवाह बहाया तुम । 
प्रेम पंथ अभिभूत नाथ मैं            आनंद सरित डुबाया तुम ।
अल्प बुद्धि गुण बरनऊँ कैसे       गुण सागर  गुण बादर तुम ।
 
[ ३  ]
नमन     हिरदय   गुरुदेव करूँ            रूप    अनेकन   वंदन ।
प्रथम गुरु निज जननी  ध्याऊँ            शीश धारकर  चरणन ।
पीना खाना चलना सीखा                   मीठी  बोली     भाषण ।
प्यारे परिवारीजन वन्दों                    सीख दीन जग चालन ।
कोच मास्टर व्यवसायिक गुरु           दीनी बहुत सिखावन    ।
केहि बिधि उतरन ज्ञान कर्ज             सम्मानी  मनभावन     ।
चरण प्रणाम सबन के करिहों              गुरु रूप विस्तारण      ।
पर्वत प्रकृति अग्नि धरनी           सागर सरिता पावन           ।
वंदन गुरुरूपी इन सबही                गुपाल  ज्ञान  प्रदायिन    ।
सबसों सीखे लीन काम जग          बिना दक्षिणा    शिक्षण     ।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *