मैं बाट देख रही तेरी

मेरे घर , आना रे , घनश्याम ,  प्रभु मैं , बाट, देख  रही ,तेरी    
मैं तो बाट देख रही तेरी             ,      मैं याद कर रही तेरी     
गऊअन ,तू , खिरकन कर, अइयौ       ,
  मैया जसुदा से,    कह ,   अइयौ     
गोकुल ,भगतिन , सों मिल आवो       ,
आयुष ,     लै    ,     भजि अइयौ     
———————————-      मैं   बाट,  देख, रही, तेरी    
   घर ,   आवौ ,    तौ , चौकी  , डारूँ      
कालिंदी ,    जल चरण           पखारूँ  ।
  पोंछु   ,  निज कर  , चरण ,तुम्हारे ,
   आजा ,       जीवन    ,          वारुं     
          ————                      मैं बाट,  देख, रही, तेरी      
चन्दन अक्षत पूजा         करिहौं
वंशी , तोर ,एक ,लंग      धरिहों
सूरत ,निरख ,निरख ,सुख पावों,
 निज हिये,       बिच , धरिहों     
————————–मैं बाट,  देख, रही, तेरी      
स्यामा गाय ,कौ                    , माखन, राख्यौ      
मिसरी ,        मेवा ,    मीठौ    ,           , राख्यौ      
लल्ला,  धर, दीनों  ,छींके , पै  ,कोऊ  , नांय ,बतायौ     
           ————–          मैं बाट,  देख, रही, तेरी    
कंचन थार , भर , माखन  , दूंगी     
आँचर  ते  परदा   कर        ,लूंगी    
भोग लगइयौ , निधरक ,मोहन
,पंखा ब्यार , करुँगी    
                —————–  मैं बाट,  देख, रही, तेरी    
नरम बेंत कौ ,    पलंग बिछाऊँ  
मख़मल चादर,    तोय , उढ़ाऊँ  
खड़ी, पांतरन  ,पंखा, ढोरु,
कान्हा ,तोय ,सुवाहूं  ।
             —————–  मैं बाट,  देख, रही, तेरी ।
सोवै,  तू ,  मैं  , मन  ,  सुख पाऊँ
नींदी  सूरत ,     लखि  ,ललचाऊँ
बाल ,लाल , प्रीतम, हरि ,  प्यारे,
कैसे, जग समझाऊँ
                         —————–  मैं बाट,  देख, रही, तेरी ।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *