श्रं गार पर्व फाग उत्सव होली

  

 

 

 

 

[ १ ]
श्रं गार पर्व 
 
 फाग उत्सव , का, पर्व ,तुम्हारा         ,    यादगार ,  पल,   बन   ,जाये ।
रंगौं ,की ,बरसात ,करे  , ये              , मन    मंदिर ,   को    ,रंग, जाये । 
सतरंगी, होरी की, वरषा से              , आनंदित  भी      , तन    मन हो । 
मन के ,  मैल    , सभी ,मिट जावैं    ,   रसरंगी           ,सब, जीवन हो । 
रंगौं का,    त्यौहार,   आपका           ,  मन   ,   रंगने    ,  वाला      हो । 
द्धेष     , कलह     ,हिंसा,  मिट जावैं  ,      भाव,  बढाने    , वाला ,   हो ।
भॉंति   ,भॉति की , हास्य श्रंखला      ,अनुपम  , जीवन    ,   रंग ,  भरे । 
आल्हावित हो     ,साल  , तुम्हारा     ,   मानव , सुलभ    ,तरंग  , भरे । 
समरसता,  धन   ,समृद्धि ,बॉटै         ,मानवता, की   ,     , झोरी ,  ,मैं । 
प्रेम, अमर ,हो ,जायै, जग ,मैं,         , यही      , कामना  , होरी  ,   मैं । 

 

 

                                  [ २ ]
जलें बुराई मन अंतर्मन पर्व होलिका पावन ।
जलें भ्रांति जीवन संशय सब  जलें विचार अपावन ।
दुराग्रह हठबंध जलें सभी     ज्वाला पावन दाह न  ।
जलजाय सब रूढ़िवादिता ज्ञानमार्ग शुभ कारण ।
होली सतरंगी वर्षा जग रंग जाये रंगायन ।
रंग बिरंगे तन मन हों रंग बिरंगे हों आंगन ।
रंग बिरंगे रसिया होंवें रंग बिरंगे कामिन  ।
फागुन फ़ाग खेल सुख पावें पिचकारी पिचकावन।
श्रृंगारी श्रृंगार सुहावन फ़ाग मास मन भावन।

 

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *