BHARAT SANCHAR NIGAM LIMITED

जन जन आश्रयदाता     जन जन पर बलिहारी है। 
गौरवशाली निगम हमारा भरत भूमि प्रतिहारी है।
भारत संचार संचार भारत निर्मल यश उज्जवल है।
अहर्निशं सेवामहे    जिसका    सेवा  मंत्र अटल है।
कीर्ति पताका धवल हमारी  भारत वर्ष जुडाया है।
जंगल मंगल घाटी चोटी सबपर ये ही छाया  है।
जन जन को संचार मुहैया इसकी जिम्मेदारी है  ।  1 ]
विराट रूप योगेश्वर जैसा      जहाँ देखूँ वहाँ हाज़िर है।
कौना  कौना आलोकित इससे डाटा वॉइस संचारित है।
नहीं लाभ सौदा करता सेवा दर भारी कम है    ।
संचार क्रांति के घटकों सबसे ज्यादा  दम  है
कुटी कबीले झोंपड़पट्टी असली ये  अधिकारी है। २  
जन जन वाणी मुखरित भारत भारत का संचार।
खाई जंगल समुद      पहाड़ी टूटे न कबहू तार।
कहते ये बिक जायेगा        आती  हँसी हमार ।
कर्मठ कर्मवीर का उद्यम कैसें माने हार।
 
 
प्यार असीमित जनता भारत कैसे होवै ख्वारी।३।  
संसाधन टोटा रोना              आज दिखाई देता है।
हिरदय मैं जो बसा हुआ        पीछे दिखाई देता है।
नहीं जरूरत इसे प्रचार की रग रग मैं ये व्यापक है।
साधन युक्त करो इसको भारत भाग्य विधायक है।
भारत संचार निगम लिमिटेड  महिमा सबसे न्यारी है।
गौरव शाली निगम हमारा           भारत का प्रतिहारी है।

 

 

 

9 Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *