गोपाल गीत

     गोविंद  हरे  गोपाल हरे               ,    श्री कृष्ण हरे ,श्री राम हरे      ।  
       
        पैसा पैसा  कहे  जगत  सब             ,      पैसा माई बाप          हरे ।   
        कृष्ण    कर्ज  दोनों   एक  राशी     एक  सुक्ख  एक   दुक्ख    हरे   ।  
         बौहरे     पैसा  वापिस माँगें     ,    तकादा   हर क्षणिक  हरे           । 
         लौटाने  की  राह न सूझै           ,         जेब मैं  नहीं  छदाम  हरे    । 
             बसन  नित  नये  कंचन   भूषण     ,    बंगला मांगे   बाम  हरे     । 
 कुँवर    बड़ा   फोर व्हीलर  मांगे        , ड्राइव  जावै     , नित्य     हरे । 
छोटा    , बुलट   , बुलट   , नित   गावै ,  चढ़ना   चाहवै   नित्य   हरे  । 
 
 बेटी  सोचें   पाणिग्रहण   हो                  ,   सोना   चाँदी  ,  ढेर    हरे  । 
बहन  कहे   भर   भात  हमारौ         ,    भ्राता     स्वार्थ     नित्य     हरे     । 
 कोई   कहै   न   गुपाल   चाहिये      ,   सेवक     आठौं  याम   हरे         । 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *