मन की उलझन

मन करता है दे दूँ  सारा                     जो जीवन मैं पाया।
मन भी बाँटूँ धन भी बाँटूँ                     बाँटूँ अपनी काया।
ज्ञान ध्यान सब मिल बाँटों                निरमल होवै काया।
झूंठे सगे न संग सहारे                      माया मोह बढ़ाया ।
रोकें मोहै जब       सब मिल कर       मैं   बांटन  हर्षाया ।
नहीं इकठठा       करना   भाई         मोह लोभ बढ़ाया  ।
सबकी आँख सदां माया पर           हिंसा बैर  उगाया    ।
भाई भाई लड़ते देखे                   पिता पुत्र सिलटाया    ।
सब संबंधों की भक्षक ये है          सारा जग उलझाया।
आती प्यारी लागै साधौ             जाते दुःख उगाया   ।
अहम् क्रोध मोह की दाता          हिंसा प्रतिहिंसा छाया।
दान परम गति धर्म सुमति गति  भोग शोक उपजाया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *