सुहानी जिंदगी

[ १ ] अजीब सी कहानी सुहानी जिंदगी।  सार केवल करलो गोपाल बंदगी। नित नये खेल हमें खिलाती जिंदगी। बिगाड़ती सभी कुछ बिगड़ैल जिंदगी। सुधारती सभी फिर अनौखी जिंदगी। अपनों की भी याद भुलाती जिंदगी  । प्यारे प्यारे लोग मिलाती जिंदगी। बाधाओं की नींद उड़ाती जिंदगी। सतरंगी फुहारे  छुड़ाती  जिंदगी। …

  देश महान

जय जय तेरी हिन्दोस्तान । विश्व गुरु मेरे देश महान ।   आज देख तेरा हाल हुआ          बड़े २ अमरिका जाते। जिनको वीजा मिल ना पाता ट्रम्प प्रभू गुहार लगाते । सबकी वहाँ होय आवभगत घंटो अड्डे पर मिमयाते । धरी रहें सब वी आइ पन …

——-:  बेटी  जग का भविष्य :———      —————————–

——-:  बेटी  जग का भविष्य :———      —————————–   बेटी है तो निश्चित कल है , सृष्टी पटल का मंत्र अटल है ।  मानवता का   ये संबल है , संजीवनी  जीवन मंगल है ।               बेटी बिना  सृजन  अधूरा,              ग्यान …

परिचावली महान भक्त कविराज तुलसीदास

बाँदा जनपद मैं बसत राजा पुर  शुभ गांव । हुलसी नारि सुहावनी द्विजवर आत्माराम  । श्रावण शुकली सप्तमी घुटी घटा चहुंओर । गरजें बादल चमकें चपला दादुर पपिहा शोर । कविराज के  जन्म को औसर आयौ जान  । रामचंद्र चरनन कृपा आये श्री हनुमान    । रुदन शिशु कीनों नहिं …

रक्षाबंधन

रक्षा बंधन  पर्व मनाएं । रक्षाबंधन उत्सव अदभुत संबंधों के स्पंदन का । कच्चे धागे का बांकापन भाई के संकल्पन का। परम सनातन  प्रथा पुरातन प्रेम पूर्वक जकड़न का । सहज समर्पण निश्चय पक्का बहना के अभिनंदन का । प्रेम बंध हम बंध जाएँ । रक्षा बंधन पर्व मनाएं    …

नौकरानी मालकिन

 मनोरमा दर्द की पीड़ा    से कराह रही थी स्तन के जानलेवा कैंसर ने उसके तन को हड्डियों का ढाँचा बना दिया था , बार बार असाध्य सी  बीमारी के उपचार ने उसके स्वास्थ को निरंतर गिरा दिया था    ।    वह जीवन से निराश होकर ईश्वर से   ही किसी   चमत्कार …

Mahakavi sidhabhakt tulsidas

बाँदा जनपद मैं बसत राजा पुर  शुभ गांव । हुलसी नारि सुहावनी द्विजवर आत्माराम  । श्रावण शुकली सप्तमी घुटी घटा चहुंओर । गरजें बादल चमकें चपला दादुर पपिहा शोर । कविराज के  जन्म को औसर आयौ जान  । रामचंद्र चरनन कृपा आये श्री हनुमान    । रुदन शिशु कीनों नहिं …

Fag kamna

जलें बुराई मन अंतर्मन पर्व होलिका पावन । जलें भ्रांति जीवन संशय सब  जलें विचार अपावन । दुराग्रह हठबंध जलें सभी     ज्वाला पावन दाह न  । जलजाय सब रूढ़िवादिता ज्ञानमार्ग शुभ कारण । होली सतरंगी वर्षा जग रंग जाये रंगायन । रंग बिरंगे तन मन हों रंग बिरंगे हों …

BHARAT SANCHAR NIGAM LIMITED

जन जन आश्रयदाता     जन जन पर बलिहारी है।  गौरवशाली निगम हमारा भरत भूमि प्रतिहारी है। भारत संचार संचार भारत निर्मल यश उज्जवल है। अहर्निशं सेवामहे    जिसका    सेवा  मंत्र अटल है। कीर्ति पताका धवल हमारी  भारत वर्ष जुडाया है। जंगल मंगल घाटी चोटी सबपर ये ही छाया  है। …