गोपाल महादेव शंकर

     ऊॅ त्रयम्बकं यजामहे सुगन्धिं पुष्टिवर्धनम्।  उव्र्वारूकमिव बन्धनान्मृत्योर्मुक्षीय मामृतात्।। स्तुति कैलाशी  कैलाश  गिरि           ,   आसन दीन  जमाय    । डमरू      बजै    त्रिशूल पै      , बैठे      ध्यान    लगाय    । बैठे ध्यान लगाय सामने          …