गोपाल खाटू श्याम  वंदना

 गोपाल खाटू श्याम  वंदन         [ १ ]         महादानी  महादयालु             आन बान पहचान  ।        गुपाल ‘द्वार तेरे खड़ा        माँग करन    वरदान  । माँग करन    वरदान हार कर    ,     स्मृति …

— गोपाल माँ सरस्व्ती वन्दना :——

         [   स्तुति १ ] अनुकंपा  मातेस्वरी        ,    धरौं   तुम्हारौ        ध्यान  ।    सदविचार   सदभावना   ,   हो     हिरदय     सदग्यान   ।    हिरदय में सद्ज्ञान सरन जग      , लीनी मात      तुम्हारी  ।  वीणावादिन हंसवाहिनी          …

गोपाल गणेश वंदना

महामहेश्वर गणेश्वर  , बिघ्न बिनाशन हार । चरनन सेवक प्रभू जी,   लीनी शरण तुमार ।     लीनी शरण  तुमार  सुरेश्वर , भंजन दुःख   सुखदाता     । एकदंत प्रथमेश कवीश्वर     ,        बुद्धि ज्ञान परिचाता    । लम्बोदर झाँकी  कुञ्जरमुख     अदभुत रूप बिधाता       । पृथ्वी प्रदक्षिन प्रथम  सवारी जय …

गोपाल माता दुर्गा देवी स्तुति

माला   सोहै     केहरी  ,      ठाड़ी पृष्ठ सहार     ।     अदभुत मुद्रा मोहनी  ,      महिमा   अपरम्पार    ।       महिमा अपरम्पार शक्ति मां ,     प्रभापुंज   मन   मोहे     ।    अष्ट भुजा धारी छबि निरखौ      सुख सागर  जग भोहे    ।    धनुष बाण गद …

मुखपृष्ठ

  ——-     ऊँ    गणपतये   नमः      ——-   ऊँ वक्रतुण्ड़ महाकाय    सूर्य कोटि समप्रभ। निर्विघ्नं कुरू मे देव,       सर्व कार्येषु सर्वदा।             श्री कृष्ण शरणम ममः “श्रीराधे सर्वेश्वरी विजयते”                  ” वन्दे कृष्णम जगत गुरू “   अखण्डमण्डलाकारं  व्याप्तं येन चराचरम् ।  तत्पदं दर्शितं येन      तस्मै श्रीगुरवे नमः ॥    अज्ञानतिमिरान्धस्य ज्ञानाञ्जनशलाकया।    चक्षुरुन्मीलितं येन   तस्मै श्रीगुरवे नमः ॥    गुरुर्ब्रह्मा गुरुर्विष्णुः    गुरुर्देवो महेश्वरः ।    गुरु साक्षात्  परंब्रह्म तस्मै श्रीगुरवे नमः। कर्मण्येवाधिकारस्ते मा फलेषु कदाचन। मा कर्मफलहेतुर्भूर्मा ते …

गोपाल महादेव शंकर

     ऊॅ त्रयम्बकं यजामहे सुगन्धिं पुष्टिवर्धनम्।  उव्र्वारूकमिव बन्धनान्मृत्योर्मुक्षीय मामृतात्।। स्तुति कैलाशी  कैलाश  गिरि           ,   आसन दीन  जमाय    । डमरू      बजै    त्रिशूल पै      , बैठे      ध्यान    लगाय    । बैठे ध्यान लगाय सामने   बैठे      ,  …