सुहानी जिंदगी

[ १ ] अजीब सी कहानी सुहानी जिंदगी।  सार केवल करलो गोपाल बंदगी। नित नये खेल हमें खिलाती जिंदगी। बिगाड़ती सभी कुछ बिगड़ैल जिंदगी। सुधारती सभी फिर अनौखी जिंदगी। अपनों की भी याद भुलाती जिंदगी  । प्यारे प्यारे लोग मिलाती जिंदगी। बाधाओं की नींद उड़ाती जिंदगी। सतरंगी फुहारे  छुड़ाती  जिंदगी। …

——-:  बेटी  जग का भविष्य :———      —————————–

——-:  बेटी  जग का भविष्य :———      —————————–   बेटी है तो निश्चित कल है , सृष्टी पटल का मंत्र अटल है ।  मानवता का   ये संबल है , संजीवनी  जीवन मंगल है ।               बेटी बिना  सृजन  अधूरा,              ग्यान …

परिचावली महान भक्त कविराज तुलसीदास

बाँदा जनपद मैं बसत राजा पुर  शुभ गांव । हुलसी नारि सुहावनी द्विजवर आत्माराम  । श्रावण शुकली सप्तमी घुटी घटा चहुंओर । गरजें बादल चमकें चपला दादुर पपिहा शोर । कविराज के  जन्म को औसर आयौ जान  । रामचंद्र चरनन कृपा आये श्री हनुमान    । रुदन शिशु कीनों नहिं …

रक्षाबंधन

रक्षा बंधन  पर्व मनाएं । रक्षाबंधन उत्सव अदभुत संबंधों के स्पंदन का । कच्चे धागे का बांकापन भाई के संकल्पन का। परम सनातन  प्रथा पुरातन प्रेम पूर्वक जकड़न का । सहज समर्पण निश्चय पक्का बहना के अभिनंदन का । प्रेम बंध हम बंध जाएँ । रक्षा बंधन पर्व मनाएं    …

Mahakavi sidhabhakt tulsidas

बाँदा जनपद मैं बसत राजा पुर  शुभ गांव । हुलसी नारि सुहावनी द्विजवर आत्माराम  । श्रावण शुकली सप्तमी घुटी घटा चहुंओर । गरजें बादल चमकें चपला दादुर पपिहा शोर । कविराज के  जन्म को औसर आयौ जान  । रामचंद्र चरनन कृपा आये श्री हनुमान    । रुदन शिशु कीनों नहिं …

Fag kamna

जलें बुराई मन अंतर्मन पर्व होलिका पावन । जलें भ्रांति जीवन संशय सब  जलें विचार अपावन । दुराग्रह हठबंध जलें सभी     ज्वाला पावन दाह न  । जलजाय सब रूढ़िवादिता ज्ञानमार्ग शुभ कारण । होली सतरंगी वर्षा जग रंग जाये रंगायन । रंग बिरंगे तन मन हों रंग बिरंगे हों …

हिन्दी हिन्दुस्तान 

हिन्दी हिन्दुस्तान    पखवाडौ ,हिंदी, मनैं     ,” गुपाल  “ गाथा, , गॉय ।  दै ,विसार, फिर ,साल   ,भर ,बैठै ,मौज ,मनॉंय । बैठै, मौज, मनॉंय ,    देख ,कें ,अग्रेजी, मूवी । बहस ,होय ,अंग्रेजी, में, सब, नेतान, की, खूबी । अग्रेजी, में, जगें ,सोय ,रहै, अंग्रेजी, में ।अंग्रेजी ,में, …

हिंदी दिवस १४ सितम्बर २०१८

हिंदी दिवस ,उत्सव हिंदी, वासी हिन्द मनाते हैं। चौदह सितम्बर भाषा दिन नाना खेल रचाते हैं। जय हिंदी जय     हिंदघोष जोर शोर से होता है। औपचारिकता पखवाड़े तक फिर भारत सब सोता है। कर्ण धार सब जान रहे हिंदी तो मुद्रा रुपया है। डालर अमरीकी अंग्रेजी उपमा एकदम बढ़िया …

—————–स्वादू —————————-

—————–स्वादू —————————-   संन्यासी कै राज ऋषि कै मुकुट बंद भूपाल / ऊँचे सिंहासन विराजत ईर्ष्या होंत  गुपाल   / भोग करें तज त्याग कूँ आश्रम फाइव स्टार / कष्ट न तनकहु सह सकें बातन कौ व्यापार  / सही न जाये जिन धुप और जाड़े की बयार / एसी मैं …