ओजवान

योद्धा घबराये ना करते खोजा करते निज मंजिल को   । क्यों विजय श्री का वरण नहीं बारीकी देखें प्रतिपल को.। रणभूमि मैं नुकसानों की  भरपाई सब करने को। तत्पर मचलाया करते    रणचंडी रंग भरने  को। लालायित वो रहते हैं निज इतिहास बदलने को। प्रबल पराक्रमी बन कर प्रबल पराक्रम करने को   …

मैदान मत छोडो

मैदान कभी भी मत छोडो यह कायरता का लक्षण है। कर्म क्षेत्र मैं डटना ही तो  जीवन कला विलक्षण है। जब राहें ऊबड़ खाबड़ हों। दुरगम हो चढ़ना मंजिल पै। हो सुख सुबिधा की नाकाफी दुखों का जोर हो वृद्धि पै। १। जब चिंता तुमको खाती हो मुस्कराते संगी साथी हो। …

  देश महान

जय जय तेरी हिन्दोस्तान । विश्व गुरु मेरे देश महान ।   आज देख तेरा हाल हुआ          बड़े २ अमरिका जाते। जिनको वीजा मिल ना पाता ट्रम्प प्रभू गुहार लगाते । सबकी वहाँ होय आवभगत घंटो अड्डे पर मिमयाते । धरी रहें सब वी आइ पन …

BHARAT SANCHAR NIGAM LIMITED

जन जन आश्रयदाता     जन जन पर बलिहारी है।  गौरवशाली निगम हमारा भरत भूमि प्रतिहारी है। भारत संचार संचार भारत निर्मल यश उज्जवल है। अहर्निशं सेवामहे    जिसका    सेवा  मंत्र अटल है। कीर्ति पताका धवल हमारी  भारत वर्ष जुडाया है। जंगल मंगल घाटी चोटी सबपर ये ही छाया  है। …

मैं बाट देख रही तेरी

मेरे घर , आना रे , घनश्याम ,  प्रभु मैं , बाट, देख  रही ,तेरी ।    मैं तो बाट देख रही तेरी             ,      मैं याद कर रही तेरी  ।    गऊअन ,तू , खिरकन कर, अइयौ  ।     ,   मैया जसुदा से,    कह …