ओजवान

योद्धा घबराये ना करते खोजा करते निज मंजिल को   । क्यों विजय श्री का वरण नहीं बारीकी देखें प्रतिपल को.। रणभूमि मैं नुकसानों की  भरपाई सब करने को। तत्पर मचलाया करते    रणचंडी रंग भरने  को। लालायित वो रहते हैं निज इतिहास बदलने को। प्रबल पराक्रमी बन कर प्रबल पराक्रम करने को   …

मैदान मत छोडो

मैदान कभी भी मत छोडो यह कायरता का लक्षण है। कर्म क्षेत्र मैं डटना ही तो  जीवन कला विलक्षण है। जब राहें ऊबड़ खाबड़ हों। दुरगम हो चढ़ना मंजिल पै। हो सुख सुबिधा की नाकाफी दुखों का जोर हो वृद्धि पै। १। जब चिंता तुमको खाती हो मुस्कराते संगी साथी हो। …