गोपाल युगलकृष्ण श्रृंगार भाव भंगिमा

                         [  १  ] अपलक निरखत लाड़ली             ,   जसुदा नन्द कुमार  । रूप लखै   रूपेश्वरी                     ,   राधे कीर्ति कुमारि     । राधे कीर्तिकुमारि   करै अति …

गोपाल युगलकृष्ण सौंदर्य बर्णन

                                           [ १ ] शीश मुकुट नैना ,रुचिर      , उर सोहै   वनमाल। श्री राधे  सर्वेश्वरी             ,सर्वेश्वर    नंद लाल। सर्वेश्वर नंद लाल …