गुपाल ब्रज ,जमुना   रसमाधुरी 

[ १ ]                        [    गुपाल ब्रज     जमुना    रसमाधुरी  ]                    ।।  कामबन  सोभा  मोइ  लुभाबै ।। कोट पुरातन कुन्ड चुरासी          चुरासी खम्ब गिनाबै । चरन पहारी  …

गुपाल भक्ति रस माधुरी

[  १   ]   [    गुपाल  उद्धार  रस  माधुरी ]   धैनुका निरखत     रूप   सुहानों    । गौरस्याम  सुन्दर  अति जोरी           मनही         मन  मुस्कानों। दाऊ   गुपाल ग्वाल मित  बिहरत          बृन्दाबन           ललचानों। कंस नृसंस काल एइ …

गुपाल ,बालक्रीड़ा  लीलारस माधुरी

[    १ ] [  गुपाल बालक्रीड़ा  लीलारस माधुरी ] काल कुठरीआ     दैंहंइ    दरसन । तेजबंत    तमनासी  मोहन          ,  बंधन    स्बतइ  अबंधन । महा गदा   कर महासंख    कर     , अदभुत  चक्र   सुदरसन  । अभय करत हरि चौथे कर सौं     …

 गुपाल व्यग्रता रस माधुरी

[  १    ] [         गुपाल व्यग्रता रस माधुरी     ] चन्द्रानना ,   बुझा ,  मोहै    ,  रीती  । जेहि ,बिधी  ,स्याम ,सुहाने ,आबें         ,  बेग , बताबौ,      नीती  । कुन ,कुन ,पुन्य, देब ,कुन ,पूजूं              , आलि , होइ, मन,  चीती । बृंदा  ,सेबा  , ब्रत ,   बृंदाबन                    …

श्री गुपाल आमंत्रण, रस माधुरी

[  १   ] ‘’ श्री     गुपाल आमंत्रण,   रस माधुरी     ‘’ बूझूं       सूरत   सखी     बनबारी । चित्र, बनाबौ   मनमोहन  हरी        रूप   अनूप    कुमारी       । मृदुल बैन स्रबन रस भीजे             ललिता  कूंच  निकारी      । …

गुपाल बिनय कामना रस माधुरी

[  १     ] [ गुपाल बिनय कामना रस माधुरी ]     ।। बिनबऊं   नाथ   दोऊ  कर  जोरी ।। युगल चरन मन रमैं हमारौ       हिऐ     लालसा     मोरी । नटखट मोहन संग बिराजी          श्री जी अति मन  भोरी । भुवन लुभाबन रूप निहारत  …

गुपाल प्रेम रस माधुरी

[ १ ] [  गुपाल प्रेम रस माधुरी] ।।  मोहन    मधुबन  धैनू चराबत ।। पीत बसन लहरत हरि कंधा   मोर पंख सिर छाबत । प्यारी बंसी प्रभु प्यारी धुन      बन बेलउ  लहराबत । नील गगन दामिन सी सोभा   दंतपंक्त  मन भाबत। कान्हा की  सोभा को  बरनै  रति  देबउ  …

गुपाल हिय उदगार रस माधुरी

              [  १   ]   [  गुपाल हिय उदगार रस माधुरी] ।।  माया मोइ निसदिन नाच नचाबै ।। मिथ्या चकाचोंध सी कौंधत  मनुआ   गोता  खाबै  । पैठत गहरे मैं कबऊ             फिर ऊपर  कूं  आबै  । हौं तेरो तात जननि इहि तेरी  भ्राता  प्रिय अति भाबै …

गोपाल अलौकिक रस माधुरी

           [   १  ]     [  गुपाल अलौकिक रस माधुरी ]            ।। सांबरे तो सौ नांहि कृपाला ।। भारत में पारथ रथ हांक्यौ   तुमइ नंद के लाला । स्यामा चीर बढायौ केतौ हे प्रभु  दीन दयाला । भगत जान भीसम प्रन राख्यौ  चक्र लीन ज्यों काला …